तैयारी -जाइडस कैडिला से एक करोड़ टीके खरीदेगा, केंद्र सरकार

17

12 साल से ऊपर के बच्चों को लगाने की मंजूरी, किशोरों को जल्द लगेगा टीका

जमशेदपुर: किशोरों को कोरोना टीका जल्द लगने की उम्मीद बढ़ गई है। केंद्र सरकार ने जाइडस कैडिला के तीन खुराक वाले कोविड टीके ‘जाइकोव-डी’ की एक करोड़ खुराक खरीदने के आदेश दिए हैं। इसे 12 साल से अधिक उम्र वालों को लगाया जा सकता है। हालांकि,सूत्रों का कहना है कि पहले वयस्कों को प्राथमिकता दी जाएगी और उसके बाद किशोरों को वैक्सीन दी जा सकती है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को बताया कि यह टीका देशव्यापी कोरोना टीकाकरण अभियान में इसी महीने शामिल हो जाएगा।केंद्र सरकार ने देश में विकसित दुनिया के पहले डीएनए-आधारित कोविड टीके को टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल करने के प्रयासों के लिए पहले ही हरी झंडी दे दी है। इसे 12 साल या उससे ज्यादा उम्र के लोगों के लोगों को देने के लिए मंजूरी दी गई है।

451 रुपये की एक खुराक-

इस टीके की एक खूबी यह है कि इसे सुई के जरिये मांसपेसियों में नहीं लगाया जाता है बल्कि यह अलग प्रकार की डिवाइस (जेट एप्लीकेटर) से त्वचा में दिया जाता है जिससे दर्द भी नहीं होगा। अधिकारियों ने बताया कि टीके की कीमत कर को छोड़कर करीब 358 रुपये है। इसमें 93 रुपये की लागत वाले ‘जेट एप्लीकेटर’ का खर्च भी शामिल है। सीमित उत्पादन क्षमता की वजह से शुरुआती चरण में सिर्फ वयस्कों को ही यह टीका दिए जाने की संभावना है।

हर महीने करीब एक करोड़ खुराक मिलेगी-

जाइडस कैडिला के मंत्रालय को जानकारी दी है कि कंपनी हर महीने जाइकोव-डी की एक करोड़ खुराक मुहैया कराने की स्थिति में है।

अगले चरण की तैयारियां –

सूत्रों ने बताया कि किशोरों और बच्चों को टीका देने के लिए मंत्रालय में विशेषज्ञों की टीम योजना तैयार कर रही है। जब कोरोना टीका देने की बारी आएगी तो सबसे पहले गंभीर बीमारियों से जूझ रहे बच्चों और किशोरों को मौका दिया जाएगा। इसके लिए नेशनल टेक्निलक एडवाइजरी ग्रुपप्राथमिकता सूची भी तैयार कर रहा है।

28 हफ्ते का अंतर रहेगा हर खुराक में दिन बाद तीसरी खुराक दी जाएगी,दिन बाद लगाई जाएगी ।

दूसरी खुराक खास प्रशिक्षण जरूरी

सूत्रों ने बताया कि इस टीके को सामान्य इंजेक्शन से मांसपेशियों में दिए जाने के बजाय जेट एप्लीकेटर से त्वचा में दिया जाएगा। इसके लिए पूरे देश में व्यवस्था बनाने की तैयारी की जा रही है। कुछ दिनों में टीका लगाने वाले फ्रंटलाइन वर्कर्स को विशेष तौर पर प्रशिक्षित किया जाएगा।

ऐसे फायदा

टीके को 2-8 डिग्री तापमान पर रखा जा सकेगा पर 25 डिग्री पर भी यह खराब नहीं होगा

किशोरों को कोरोना का टीका लगाने के बाद देश में संक्रमण की चेन तोड़ने में आसानी होगी

ज्यादातर किशोर स्कूलों में जाते हैं, ऐसे में वहां संक्रमण फैलने की संभावना कम हो जाएगी

66.6 फीसदी प्रभावी

परीक्षण के दौरान यह जायकोव-डी टीका कोरोना वायरस के खिलाफ 66.6 फीसदी प्रभावी पाया गया

14 करोड़ किशोर

देश में14 करोड़ से ज्यादा किशोर ऐसे जिनकी उम्र 12 से 18 साल के बीच जबकि दो से 18 साल की उम्र वालों की संख्या 35 करोड़ से ज्यादा

भारत बायोटेक की कोवावैक्सीन और जायडस कैडिला की जायकोव-डी वैक्सीन बच्चों के लिए देने की तैयारी की जा रही है। इसके अलावा दो और टीकों का परीक्षण चल रहा है। इनमें सीरम की कोवावैक्स और बायोलाजिकल ई की कोरबेवैक्स शामिल हैं। कोवावैक्स का 11 साल के बच्चों पर ट्रायल चल रहा जबकि कोरबेवैक्स को पांच साल से अधिक उम्र के बच्चों पर ट्रायल की अनुमति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भाजयुमो गोलमुरी मंडल ने छठ व्रतियों के लिए नि:शुल्क 2 क्विंटल लौकी का वितरण गोलमुरी में किया

Mon Nov 8 , 2021
जमशेदपुर : भाजयुमो गोलमुरी मंडल ने लोक आस्था महापर्व छठ पूजा के अवसर पर छठ व्रतियों के लिए नि:शुल्क 2 क्विंटल लौकी का वितरण गोलमुरी में किया। इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से भाजयुमो जिला अध्यक्ष अमित अग्रवाल भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य मिथिलेश सिंह यादव भाजपा जिला मंत्री मनजीत सिंह […]